असामंजस्य

कुछ ऐसे असामंजस्य मे हूँ, 

तुझसे इकरार मैं कर नहीं पाती 

और इंकार मुझसे किया नहीं जाता। 

 

 

 

 

1+
Share with others

Leave a Reply

Your email address will not be published.